Shopping Cart

Maya Hair Oil

₹150.00 Ex Tax: ₹150.00 120 Ml.

Kaunch Pak

₹215.00 Ex Tax: ₹215.00 200 gm

Sanatan Bal Ghunti

₹85.00 Ex Tax: ₹85.00 100 Ml.

Sukam Pak

₹210.00 Ex Tax: ₹210.00 100 gm

Sushakti Prash (Special)

₹480.00 Ex Tax: ₹480.00 500 gm

Swarnshila Rasayan Capsule

₹600.00 Ex Tax: ₹600.00 10 Cap

We Think Creatively
computer's network connection Many desktop publishing.
Custom Made Products
computer's network connection Many desktop publishing.
Satisfied Customers
computer's network connection Many desktop publishing.
Latest Blog

Blogs

Blogs

<h4>Most men, about 60%, see some development of breast tissue in their lifetime. This growth could be round, symmetrical and occurs bilaterally. This growth of breast tissue in males is medically known as gynecomastia.<br><br>Causes:<br><br></h4><ul><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; The most common cause is an imbalance between the oestrogen and androgens, with excessive oestrogens leading to the growth of breast tissue.</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Excessive use of anabolic steroids</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Obesity</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Unknown reasons</li></ul><h4><br><span style="font-weight: normal;">It can affect men of all ages, and if this presents as a serious problem, then surgery is the most definitive form of treatment.<br><span style="font-weight: bold;"><br>Surgical options: </span>There are two major options available for correcting gynecomastia – liposuction and excessive surgery.</span><br><br>Liposuction:<br><br></h4><ul><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Done either under local sedation or under general anaesthesia depending on the extent of the tissue proliferation</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; A small incision is made either in the armpit or around the areola</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Excessive fat tissue and breast gland tissue are suctioned out</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; The chest contour also is altered at the same time, if desirable</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Post-surgery, the person is made to wear a compression garment for the first few days</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; This helps in keeping the tissue in place and also helps reduce swelling</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Healing takes about a couple of weeks’ time, depending on the person’s overall health status and the extent of surgery.</li></ul><h4><br>Excisive surgery:<br><br></h4><ul><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; This is done when the extent of gynecomastia is more severe</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; These people would have sagging, stretched skin around the breast area</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; More amount of fat and glandular tissue can be removed through excision</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; This is more often done under general anaesthesia</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; The incision is often done around the areala (dark portion around the nipple) so it is concealed or along the natural creases which are formed due to excessive breast tissue</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Excessive breast tissue is removed and the incisions are closed</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; There could be swelling, pain, bruising, and higher chances of post-surgical infections</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Recovery will take about ten days to two weeks</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Refraining from exercise is often advised for up to 2 weeks</li></ul><h4><br>Benefits:<br><br></h4><ul><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Restore a masculine appearance</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Shorter surgery</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Faster recovery</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Minimal or invisible scars</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Almost immediate results that can be dramatic</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Improved confidence and self-image</li></ul><h4><br>After the surgery:<br><br></h4><ul><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Surgery is definitely a sure way to remove the male breast tissue, it is almost a permanent treatment for this condition.</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; It is very important to get a trained, experienced surgeon for the procedure</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; It is important to follow post-op instructions including pain management, infection control, and recovery</li><li>&nbsp;&nbsp;&nbsp; If it was caused by use of steroids or obesity, lifestyle modification is essential to prevent recurrence</li></ul><h4><br>In case you have a concern or query you can always consult an expert &amp; get answers to your questions!<br><br></h4>
<h4 style="line-height: 1.6;">When you have a newborn bundle of joy, no parent would be ready for constant crying bouts from the infant. However, for various reasons, even healthy, well-fed infants can be colicky.<br>What is it: Although a mystery, a baby is said to be colicky if it cries for more than 3 hours a day for more than 3 days a week for more than 3 weeks at a stretch. The baby is completely healthy, and the symptoms start about 2 to 3 weeks of life in both breast-fed and bottle-fed babies. The baby usually has a red face from crying and could be pulling its legs towards its chest due to the abdominal discomfort.<br><br>Causes: Though still not exactly established, some things that are believed to cause colic include:<br></h4><ul><li style="line-height: 1.6;"><h4 style="line-height: 1.6;">&nbsp;&nbsp;&nbsp; The baby's digestive system that is growing and goes through spasms</h4></li><li style="line-height: 1.6;"><h4 style="line-height: 1.6;">&nbsp;&nbsp;&nbsp; Extreme sensitivity to noise and light in the surrounding environment</h4></li><li style="line-height: 1.6;"><h4 style="line-height: 1.6;">&nbsp;&nbsp;&nbsp; Accumulation of gas in the belly that is ingested with the milk (breast or bottles)</h4></li><li style="line-height: 1.6;"><h4 style="line-height: 1.6;">&nbsp;&nbsp;&nbsp; Hormones that are supposedly affecting the baby's moods</h4></li></ul><h4 style="line-height: 1.6;">Treatment: As there is no specific cause identified, the treatment is also symptomatic and aims at soothing the baby's pain and discomfort.<br>&nbsp;&nbsp;&nbsp;&nbsp;Altered feeding: Given that a baby's tummy is very small and is about the size of a fist, it makes sense to feed it small amounts at regular intervals than to give a full feed once in like 4 to 5 hours. The baby is sure to feel full with this and therefore the discomfort. Burping between the feed is also shown to help avoid feeling of fullness. If you are breast-feeding, try to not let the baby doze off when feeding.<br>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Anti-colic bottles: These bottles have a vent inside the bottle which will help reduce the accumulation of gas within the bottle. There are various brands available in the market, these could be a good solution if the baby is even partially bottle-fed.<br>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Simethicone: This is an anti-flatulent, which again helps eliminate gas bubbles in the stomach and thereby provides relief to the infant. It can be given either by a dropper or a syringe.<br>&nbsp;&nbsp;&nbsp; Exercise: Try bending the legs at the knee and holding it towards the baby's stomach, this can help ease the pain.<br>Remember that this is a very transient thing and usually disappears on its own by the 4th month, and the above measures are only to help the baby and the mother. If you wish to discuss about any specific problem, you can consult a doctor.<br></h4>
हर महिला की ख्वाहिश होती है की उसके शरीर का हर हिस्सा सुन्दर सुडौल आकर्षण भरा हो पर पुरुषों को सबसे ज्यादा आकर्षित करने वाला और महिलाओं का सबसे खास हिस्सा होता है स्तन। स्तन के साइज की कोई लिखी परिभाषा नहीं होनी चाहिए यह निर्भर होना चाहिए अपनी कंफर्ट और साथी के परेफरेंस पर, लेकिन ब्रेस्ट साइज हमारी पर्सनालिटी को एक्सपोज़ करने में काफी अहम होते हैं। महिलाओं का ब्रेस्ट साइज बहुत ही ज्यादा छोटा या बहुत ज्यादा बड़ा होता है जो उन्हें कई बार शर्मिंदा भी करता है। कभी कभी इस वजह से पार्टनर की रूचि भी इफ़ेक्ट करता है। और इस समस्या से निजात पाने के लिए सर्जरी मेडिसिन जैसे बाजारू नुस्खे महंगे होने के साथ ही साइड इफ़ेक्ट से भी भरपूर होते हैं। इसलिए अगर आपकी ख्वाहिश है की आपका ब्रैस्ट साइज हो परफेक्ट सुडौल सुन्दर और आकर्षण भरा तो बस आप हमारे बताए नुस्खों को अपनाएं फर्क आप खुद महसूस करने लगेगी।<br><br>पर हाँ ध्यान रहे की हर नुस्खा आपको सूट ही करे इसलिए ऑब्जर्व करें अगर सूट न करे तो छोड़ दे और सूट करता हो तो फिर आप कंटीन्यू करते रहें। असर जरूर होगा और हा ब्रेस्ट साइज बढ़ाना एक रात या दो चार दिन का काम नहीं है, इसका असर नजर आने में समय लगता है, इसलिए पेशेंस के साथ नुस्खों को खुदपर आजमाएं। नतीजा अपने समय पर खुद ब खुद सामने आएगा। तो आइये जानते हैं ब्रेस्ट साइज बढ़ाने वाले नुस्खों को।<br><br>1. पोषित आहार<br>कोई भी नुस्खा तब तक असर नही दिखा पाएगा जब तक आप सही डाइट नहीं लेंगे। ध्यान रखें उन महिलाओं के ऊपर ये नुस्खे ज्यादा असर नहीं दिखा पायेंगे जो बहुत दुबली हैं और ठीक से खाती पीती नहीं। अगर आप छोटे स्तनों को लेकर परेशान हैं, तो सबसे पहले अपनी डाइट ठीक करें। अपने खाने में दूध, बादाम, अखरोट हेल्दी डाइट को शामिल करें।<br><br>2. कच्चे आम<br>कच्चे आम की गुठली निकाल कर गूदे को पीसकर लेप बनाएं। इस लेप को स्तनों पर लगायें और जब लेप सूख जाये तो उसे धो लें। धोते वक्त बहुत ठंडे पानी का यूज न करें पानी या तो हल्का गुनगुना हो या फिर सामान्य तासीर वाला। इस उपाय को अन्य उपायों के साथ लंबे समय तक ट्राई करती रहें। इससे न केवल साइज बढ़ाने में मदद मिलती है बल्कि जिन महिलाओं के स्तन ढीले हो गए हैं उनमें कसावट भी आएगी।<br><br>3. सोयाबीन<br>स्तनों का आकार नहीं बढ़ने की एक बड़ी अहम वजह होती है बॉडी में एस्ट्रोजन के लेवल में कमी। यह ब्रेस्ट का साइज बढ़ाने के लिए जरूरी होता है। इसलिए आप सोयाबीन खाना शुरू कर दें। इसे खाने से बॉडी में एस्ट्रोजन लेवल बढ़ता है। दूसरी बात सोयाबीन में प्रोटीन भी खूब होता है। ऐसे में आप बेफिक्र सोयाबीन खायें।<br><br>4. दूध<br>दूध अपनेआप में कंप्लीट फूड होता है, लेकिन अक्सर हम देखते हैं कि फीमेल्स दूध का कम ही इस्तेमाल करती हैं। ये जरूरी नहीं है कि जो महिलायें दूध नहीं पीतिं उनके स्तन छोटें ही हों पर हां, जिन महिलाओं की ब्रेस्ट का साइज छोटा है उनके लिए दूध फायदेमंद जरूर है। दूध में प्रोटीन और वसा दोनों होते हैं दोनों ही ब्रेस्ट का साइज बढ़ाने में मदद करते हैं। स्तनों में खाली मसल्स नहीं होते उनमें फैट भी होता है और दूध से हमें चक फैट मिलता है।<br><br>5. पपीता<br>पपीता केवल पेट को ही ठीक नहीं रखता यह पेट से ऊपर के साथ चेहरे और ब्रेस्ट को भी सुडौल बनाने के काम आता है। पपीते और दूध के कंबाइन डाइट को ब्रेस्ट का साइज बढ़ाने के लिए बेस्ट टिप्स के तौर पर माना जाता है।<br><br>6. मेथी के बीज<br>मेथी का बीज हमारे लिए कई मामलों में मददगार है। और सबसे ज्यादा हम इसे जानते हैं अपनी रसोई का स्वाद बढ़ाने के लिए पर शायद आपको ये बात नहीं मालूम होगी की ये ब्रेस्ट का साइज बढ़ाने के लिए भी यह कारगर इलाज है। मेथी शरीर में एस्ट्रोजन के लेवल को बढ़ाता है। रात को एक चम्मच मेथी के दाने भिगो कर रख दें सुबह उन्हें चबाकर खाएं और पानी पी लें। साथ ही भीगे हुए मेथी के बीजों को पीसकर उसका पेस्ट बनाकर ब्रेस्ट पर लगायें और सूखने के बाद धो लें और इसके तेल की मालिश भी कर सकती हैं।<br><br>7. अलसी के बीज<br>ब्रैस्ट साइज बढ़ाने में अलसी के बीज भी बहुत अच्छा काम करते हैं। आप इनके सीधे खा सकती हैं या गेहूं में पिसवा सकती हैं। इनके बीजों की चटनी भी बनती है। आप इसका तेल सलाद वगैरा पर डालकर खा सकती हैं और अलसी के तेल से ब्रैस्ट की मसाज भी करें। यकीन मानिए यह सस्ता होने के साथ ही सबसे कारगर नुस्खा है।<br><br>8. मसाज<br>ब्रेस्ट साइज को बढ़ाने के लिए मालिश सबसे बेहतर ऑप्शन है। हाथों पर तेल लगाकर सबसे पहले आराम से दोनों स्तनों पर तेल लगाएं। उसके बाद ब्रेस्ट को नीचे से ऊपर की ओर हल्के हल्के रगड़ें। हाथों की मूवमेंट नीचे से ऊपर की ही रखें। इसके बाद हल्के हाथों को नीचे से ऊपर की ओर गोलाई में घुमायें। मालिश करने के लिए अलसी, बादाम, सौंफ, जैतून य सरसो के तेल का इस्तेमाल कर सकती हैं। करीब तीस मिनट का मसाज करते रहने से कुछ ही दिनों में आपको पॉजिटिव रिजल्ट नजर आने लगेगा। <br><br>9. व्यायाम करें<br>ब्रेस्ट के साइज को बढ़ाने के लिए व्यायाम सबसे आसान तरिका है। व्यायाम करने से आपके शरीर की सुंदरता में भी निखार आएगा। इसके लिए आप दोनों हाथों में 5 किलो वजन ले और एक कुर्सी पर बैठे जाए, और इसे लिफ्ट करें। ध्यान रखें कि आपके हाथ आपके कंधे के बराबर हों। 5 से 10 सेकंड तक लगातार ऐसा करें, फिर शुरू की स्थिति में आए, फिर वापस ऐसा करें। रोजाना इस एक्ससरसैज कीजिए रिजल्ट आपको महसूस होने लगेगा।<br>